Breaking News-

बैरसिया :- रासलीला के कलाकारों को किया पुरस्कृत-बैरागढ़ :- ग्राम कुराना में पांच दिवसीय शिवपुराण का समापन-बैरसिया :- जिला ग्रामीण के 81 केंद्रों पर 9 हजार प्रतिभगियों ने दी परीक्षा-छतरपुर :- नाम रोशन करेंगे शिवम सोनी, देवास से चयनित हुए अब नेपाल में 17 वर्ष की उम्र में दिखाएंगे खेल के माध्यम से-बैरागढ़ :- संत गौ रक्षा उत्थान समिति का दसवां स्थापना दिवस के उपलक्ष्य में-बैरागढ़ :– नवनिध हासोमल लखानी पब्लिक स्कूल में प्रेरक सत्र का आयोजन-बैरागढ़ :- अतिक्रमण टूटने में जिनका रोजगार छिना है, उन्हें मिले मुआवजा सिंधी सेन्ट्रल पंचायत ने की महापौर से मांग-बैरसिया :- पूर्व विधायक रत्नाकर कर रहे क्षेत्र के तूफानी दौरे जुड़ रहे हैं लोग-बैरसिया :- गुर्जर समाज ने मुख्यमंत्री के खिलाफ नारेबाजी कर सौपा ज्ञापन-बैरसिया :- अंतर्राष्ट्रीय सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता का आयोजन

बैरागढ़ :- मिठ्ठी गोबिन्दराम पब्लिक स्कूल में प्रेरणात्मक सत्र का आयोजन

Sharing is caring!

BAIR AGARH :-AJAY CHOUKSEY  M.9893322318-9893323269

बैरागढ़ :-
दिनांक 11 नवम्बर 2016, शहीद हेमू कालानी एज्युunnamed-1केषनल सोसायटी द्वारा संचालित विद्यालय मिठ्ठी गोबिन्दराम पब्लिक स्कूल में प्रेरणा स्त्रोत परम श्रद्धेय सिद्ध भाऊजी के पावन सानिध्य में कक्षा द्वितीय एवं तृतीय के विद्यार्थियों हेतु प्रेरणात्मक सत्र का आयोजन नवनिध सभागार में किया गया।

कार्यक्रम का शुभारंभ माँ सरस्वती, माँ भारती एवं ब्रह्यलीन संत हिरदाराम साहिब जी के चित्रों पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्ज्वलन के साथ विद्यालय के प्राचार्य डॉ. अजयकांत शर्मा जी द्वारा प्रेरणास्पद कहानी के माध्यम से किया गया।

परम श्रद्धेय सिद्ध भाऊजी ने आरती और पूजा थाली का महत्व बहुत सुदंर व प्रेरणादायी तरीके से बताया। उन्होंने छात्रों की अंकुरित अनाज को पौष्टिक बनाने व अंकुरित करने का तरीके बताया।

परम श्रद्धेय सिद्ध भाऊजी ने भोजन करने से पूर्व भोजन मंत्र का महत्व बताया। सिद्धभाऊ जी ने माता – पिता व गुरू के चरण वंदन हेतु प्रेरित किया और समझाया कि माता-पिता एवं शिक्षकों का कहना मानकर ही आप अपनी प्रगति कर सकते है।

परम श्रद्धेय सिद्धभाऊ जी ने बताया कि भोजन को उचित तरीके से चबा-चबाकर खाएॅं और हमेशा सात्विक भोजन ही लें। आचार व तली भुनी चीजां को न लेने हेतु प्रेरित किया। उन्होंने नहाने व साफ-सफाई व सुबह सर्वप्रथम स्वयं आहार लेने से पहले पक्षियों को दाना-पानी प्रदान करें। बच्चों को उन्होंने अंकुरित नाश्ता करने हेतु प्रेरित किया तथा जीवन में आगे बढ़ने हेतु कठिन परभिम करने के लिए प्रेरणा दी। उन्होंने एक बच्चे की कहानी के माध्यम से बच्चों में अवगुण कैसे विकसित होते है एवं उनसे बचने के उपाय बताया। उन्होंने कहा कि बुरी संगति के कारण ही ऐसा होता है।

इसी कड़ी में उन्होंने एक अच्छी दिनचर्या कैसे बनाई जाए और किन नियमों का पालन किया जाए के अन्तर्गत बहुत सी प्रेरणास्पद बातें बताई।

विद्यालय की कॉडिनेटर मिनी नायर ने बताया कि अच्छी आदतें विकसित करने के उपाय बताए। उन्होंने पॉकेट मनी को जोड़कर पक्षियों और गरीबों की मदद हेतु उन्हें प्रेरित किया। उन्होंने छात्रों को अपनी माता को ही सबसे अच्छा मित्र बनाने हेतु प्रेरित किया। इसी कड़ी में उन्होंने हर अच्छी-बुरी बात को माता से शेयर करने के लिए कहा।

कार्यक्रम के अन्त में विद्यालय के काउंसलर  पीयूष तुरकर ने आभार व्यक्त किया।