Breaking News-

बैरागढ़ :- तालाब का बढ़ रहा जलस्तर प्रदेश में मानसून धीरे-धीरे दे रहा दस्तक कोलास नदीं से होती है बड़े तालाब में पानी की पूर्ति-बैरागढ़ :- सीहोर नाका स्थित मंदिर के पास बना दिया कचरा घर-बैरागढ़ :- एक सिरफिरे ने तीन लोगों पर किया चाकू से जानलेवा हमला-बैरागढ़ :- रेल्वे स्टेशन पर सुरक्षा की दृष्टि से सीसीटीवी कैमरे नहीं लगाए गए है-बैरागढ़ :- विषाल बाल एवं युवा ईएमएस निरंकारी संत समागम बच्चों ने कई सांस्कृतिक रंगारंग प्रस्तुतियां, दिया मनावता का संदेश-बैरागढ़ :- नवयुवक सभा भवन में विशाल बाल एवं EMS युवा संत समागम 18 जून रविवार को शाम 4:30 से 7:00 बजे तक-बैरागढ़ :- ज्वाला कोनवेन्ट स्कूल में समर केम्प का समापन समारोह सम्पन्न-बैरागढ़ :- आदर्श मार्ग निर्माण ने पकड़ी गति एक दिन में हो गया डामरीकरण-बैरागढ़ :-वार्ड पांच में जगह-जगह गंदगी का आलम, रहवासी परेशान।-बैरागढ़ :- नालों पर अतिक्रमण होने से बिगड़ेंगे हालत भूमाफिया सक्रिय

गांधी नगर- सनशाईन कोचिंग क्लास का वार्षिक उत्सव सम्पन्न. वि़़द्यार्थियों ने दी सांस्कृतिक रंगारंग प्रस्तुतियां !

Sharing is caring!

photo-1-copy

GANDHINAGAR/ AMIR KHAN

गांधी नगर:-  प्रताप वार्ड स्थित सनशाईन कोचिंग क्लास का सोमवार को तीसरा वार्षिक उत्सव मनाया गया। जिसमें मुख्य रूप से भोपाल जोन तीन के एडिश्नल एसपी राजेश सिंह भदौरिया उपस्थित हुए। सनशाईन कोचिंग क्लास तीन वर्षो से गरीब बच्चों को शिक्षा प्रदान करने का कार्य कर रही है। सोमवार को वार्षिक उत्सव व बाल दिवस के उपलक्ष्य में समारोह का आयोजन किया गया। जिसमें विद्यार्थियों ने सांस्कृतिक रंगारंग प्रस्तुतियां दी साथ ही अच्छे अंक लाने वाले विद्यार्थियों व कार्यक्रमों में भाग लेने वाले छात्र-छात्राओं को प्रमाण पत्र व शाल श्रीफल से सम्मानित किया गया। भोपाल पुलिस के एडिश्नल एसपी भदौरिया ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि शिक्षा के साथ-साथ सांस्कृतिक गतिविधियों भी जरूरी होती है। क्लास के वार्षिक उत्सव में जो बच्चों ने रंगारंग सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी है। जो सराहनीय है संस्था द्वारा चलाई गई बच्चों को शिक्षा देने की पहल जो 50 प्रतिशत गरीब बच्चों को निशुल्क दे रही है। संस्था के संचालक सूरज नामदेव ने बताया कि सनशाईन कोचिंग क्लास की स्थापना आज से तीन वर्ष पहले बाल दिवस के दिन की गई थी। इस दिन बाल दिवस चाचा नेहरू की याद में मनाया जाता है। क्योंकि उन्हें बच्चों से बहुत प्यार था। इसलिए इसी दिन बच्चों को शिक्षा से जोड़ने के लिए क्लास का संचालन शुरू किया गया। क्लास में 50 प्रतिशत गरीबों को निशुल्क शिक्षा दी जाती है।